पेंशन में होगी भारी बढ़ोतरी आदेश जारी: पेंशनभोगियों के लिए खुशखबरी

भाग-3 में पारिवारिक पेंशनभोगी का विवरण उपलब्ध है तो फिर से पेंशनभोगी से भाग-3 मँगाने की जरूरत नही:- कोषागार निदेशालय ने पारिवारिक पेशंनभोगी के सम्बन्ध में निर्देश निर्गत किये है कि यदि पारिवारिक पेंशनभोगी का नाम एवं हस्ताक्षर भाग-3 में उपलब्ध है तो उनके सम्बन्धित विभाग से पुनः वेरीफाई कराने की आवश्यकता नहीं है। ऐसे पारिवारिक पेंशनरों से केवल फोटोयुक्त पहचान पत्र लेकर पेंशन भुगतान हेतु आदेश निर्गत किये जायें।

पेंशनभोगी संगठनों की क्या थी शिकायत

आपको बता दूँ कि पेंशनभोगी संगठनों द्वारा ढेरो शिकायते मिल रही थी कि ऐसे मामलो मे जिनमें भाग-3 में पारिवारिक पेंशनर्स का विवरण उपलब्ध है, फिर भी कोषागारों द्वारा विभागों से पुनः भाग-3 प्राप्त करने के लिए कहा जाता है।

कोषागार के कार्मिक करते थे मनमानी

पेंशनभोगी संगठनों द्वारा बताया गया है कि भाग-3 में पारिवारिक पेंशनर का पूर्ण विवरण अंकित होने के बाद भी पारिवारिक पेंशनरों से, विभागों से पुनः भाग-3 प्राप्त करने एवं तहसील से वेरीफिकेशन कराने की कार्यवाही की जा रही है।

अब नहीं होगी पुनः भाग-3 के वेरीफिकेशन की जरुरत

इस सम्बन्ध में दिनांक 19.12.2022 को आयोजित बैठक में यह मत स्थिर किया गया था कि ऐसे समस्त प्रकरण जिनमें भाग-3 में संयुक्त फोटो तथा पारिवारिक पेंशनर का नाम एवं हस्ताक्षर का अंकन है वहां पर विभाग से पुनः भाग-3 प्राप्त करने तथा तहसीलदार से वेरीफिकेशन कराये जाने की आवश्यकता नहीं है। ऐसे प्रकरणों में पारिवारिक पेंशनर का फोटोयुक्त पहचानपत्र लेकर पारिवारिक पेंशन का भुगतान किया जाये।

यह भी पढे: शासनादेश जारी: यूपी में अब 30 जून और 31 दिसंबर को रिटायर होने वाले कर्मचारियों को वेतन वृद्धि का मिलेगा लाभ

कोषागार निदेशक ने जारी किये निर्देश

इस सम्बन्ध में यह निर्देश दिये जाते हैं कि पारिवारिक पेंशनभोगी का विवरण भाग-3 में है तो फिर से भाग-3 मंगाने की जरूरत नही है। इसलिये उक्त बैठक में स्थिर किये गये मतानुसार कार्यवाही की जाये ताकि पारिवारिक पेंशनरों को अनावश्यक रूप से कठिनाई का सामना न करना पड़े। कोषागार ने निर्देश दिया है किे भाग-3 मे पारिवारीक पेन्शनभोगी का विवरण है तो फिर से भाग-3 मंगाने की जरूरत नही है, उसी के आधार पर आगे की कार्यवाई करनी है, पेन्शनधारको को अनावश्यक मे परेशान ना किया जाये।

पेशन पुनरीक्षण के कई मामले हैं लम्बित

कोषागार निदेशालय ने यह भी अवगत कराया गया है कि 7वें वेतन आयोग की संस्तुतियों के अनुसार बहुत सारे पेन्शनधारको की पेंशन रिवीजन नही की गई है। इसके सम्बन्धी शासनादेशों के अनुसार पेंशनभोगी के अंतिम वेतन का Notional रूप से निर्धारण करते हुए संशोधित PPO जारी करना था फिर भी बड़ी संख्या में अभी भी पेन्शन रिवीजन लम्बित हैं। 

यह भी पढे: NPS Pennydrop Verification! एनपीएस से निकासी के लिए पेनी ड्रॉप सत्यापन जरूरी

जल्द ही विभागों को जारी किये जायेंगें विभाग को पेंशन पुनरीक्षण के निर्देश

कोषागार निदेशालय ने कहा है किे ऐसे प्रकरणों को चिन्हित किया जाय, इसके लिए स्थानीय पेंशनभोगी संगठनों की मदद ली जाय । पेंशनभोगी / पारिवारिक पेंशनभोगी अथवा पेंशनभोगी संगठनों द्वारा ऐसे प्रकरणों की सूचना दिये जाने पर, सम्बन्धित पेंशनभोगी/ पारिवारिक पेंशनभोगी की फाइल से पुष्टि करते हुए सम्बन्धित विभाग को पेंशन रिवीजन हेतु पत्र भेजा जाये तथा PPO निर्गतकर्ता प्राधिकारी को पत्र की प्रतिलिपि प्रेषित की जाये।

Skip to content